सोमवार, 8 फ़रवरी 2010

गजल

गजल

जु्गल किशोर

हिन्‍दी अधिकारी

कुछ न कुछ कहने की आदत में बनते को बिगाड. सकते है ।

सरे बाजार में ये आपकी इज्‍जत की टोपी उतार सकते है।

अब कहां तक बचा के रखें हम अपना दाम चुगलखोरों से,

ठान लें तो शरीफों के सम्‍मान की बखिया उधाड़ सकते हैं।

होते है जो दिल से पाक साफ, उन्‍हे डर किस बात का भला

कुछ कहने की आदत में तो वो फकत खेखी बघाड़ सकते है ।

रावण के रूप मे कलयुगी इंसान ये , कुछ तो असर दिखाएगें ,

औरों का बुरा चाहने वाले क्‍या अपना जीवन संवार सकते है ।

हर युग में सीता को भी अग्नि परीक्षा से गुजरना पड़ाता है ,

राई का पहाड़ बनाने वाले क्‍या अपना चेहरा निहार सकते है,

झूठ के बल पर दम भरने वाले चल सकते है कहां तक भला

किशोर विश्‍वास के सहारे तो पूरी जिन्‍दगी गुजार सकते है ।

7 टिप्‍पणियां:

  1. ‘किशोर’ विश्‍वास के सहारे तो पूरी जिन्‍दगी गुजार सकते है ।

    बहुत अच्छी अभिव्यक्ति.

    उत्तर देंहटाएं
  2. हर युग में सीता को भी अग्नि परीक्षा से गुजरना पड़ाता है ...

    सच है ... सीता को तो हर युग में परीक्षा देनी ही होती है ... बहुत खूब कहा है आपने ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी रचना को पढकर बहुत अच्छा लगा

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत अच्छी अभिव्यक्ति.

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत अच्छी गजल ...कभी 'पाखी की दुनिया' की भी सैर पर आयें .

    उत्तर देंहटाएं